बन गया

13343119_993257520743470_7866789685317996103_n

डूब कर वो इश्क में, कैसा सिकन्दर बन गया,
आईने के सामने आते ही, पत्थर बन गया !

आ गये वो, दास्ताँ मुझको सुनाने, प्यार की,
बात तो ये है, तसव्वुर भी, मुकद्दर बन गया !

ख्वाब तो लेते रहे अंगडाईयाँ, शब भर, यहाँ,
और हमारी रात, बिस्तर भी, सितमगर बन गया !

हद नचाता है ‘मदारी’, जो समझ आता नहीं,
फिर बुतों से क्यों सजा, मंदिर भी, दर दर बन गया !

अब रहूँगा मैं, तेरी आग़ोश में हरदम, यहाँ,
पा लिया मैने तुझे, तू आज, रहबर बन गया !

नीशीत जोशी    31.05.16