खुद मुहब्बत को जताने आ गये !

19224970_1329517617117457_7328587388027725415_n

2122-2122-212
क्या कहूँ कैसे जमाने आ गये,
राहज़न रस्ता दिखाने आ गये !

फिर कहाँ बाक़ी रहा अब होंश ही,
जब वो आँखों से पिलाने आ गये !

कैसे पाऊँगा मैं मंज़िल जब के वो,
हमसफर बनकर सताने आ गये !

जब क़फस का दर्द दिल में जा चुभा,
हम परिंदे को उडाने आ गये !

तन के ज़ख्मों को सहा हँस के सदा,
ज़ख्म-ए-दिल मुझको रुलाने आ गये !

सुनके अपनी बेवफाई की ग़ज़ल,
खुद मुहब्बत को जताने आ गये !

जब मिला औरों से धोखा इश्क़ में,
‘नीर’ से वो दिल लगाने आ गये !

नीशीत जोशी ‘नीर’

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  બદલો )

w

Connecting to %s