हिज्र के ग़म को बढ़ा कर वो गए !

17265231_1237210626348157_1666611175243896520_n

२१२२ २१२२ २१२

वो कभी तन्हा सफर में खो गए,
कैद फिर मेरे तसव्वुर हो गये !

तोडकर दिल फिर सुकूँ उनको मिला,
देख सादाँ हम उसे खुश हो गए !

वस्ल की उम्मीद उसने छोड़ दी,
हिज्र के ग़म को बढ़ा कर वो गए !

शाम तन्हा रात भी खामोश थी,
ख्वाब ने ओढा फलक फिर सो गए !

मुद्दतो से वो रहे खामोश पर,
गुफ्तगू को *बेबहा लब हो गए ! *बहुमूल्य

नीशीत जोशी

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s