दर्द के कोई बहाने यूँ न होते !

17523647_1244206198981933_890308552027649751_n

2122-2122-2122

तेरी दुन्या के दिवाने यूँ न होते,
महफिलों में वो तराने यूँ न होते !

ये तमाशा भी न होता प्यार का तब,
बाद मरने फिर शयाने यूँ न होते !

प्यार से तो बेखबर था मैैं उन्हीके,
जानते गर मुझ पे ताने यूँ न होते !

दीद से मिलती खुशी मुझको अगरचे,
दिलशिकस्ता के ये माने यूँ न होते !

बात हो जाती मेरी तुझसे उसी दिन,
दर्द के कोई बहाने यूँ न होते !

नीशीत जोशी

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s