इश्क में कुछ तो अलामत ही सही

17883660_1262406263828593_816865454374089364_n

इश्क में कुछ तो अलामत ही सही,
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही !

हो तुझे परहेज़ गर फिर झूठ से,
गुफ्तगू में तब सदाकत ही सही !

आ नहीं सकते वो अब जब वस्ल पर,
दरमियाँ है ग़म,फलाकत ही सही !

खुश रहे नाराज हो कर हम बहुत,
कुछ हमारी ये अलालत ही सही !

बज़्म में खामोश हैं ये सोच कर,
कुछ तसव्वुर में बगावत ही सही !

शायरी की साहिरी तुम सीख लो अब,
महफिलों में फिर वो दावत ही सही !

है तलातुम इस जहन में क्या करें,
हिज्र का दिल में दलालत ही सही !

नीशीत जोशी
(अलामत-sign,अदावत-hatred, सदाकत- true,फलाकत-misfortune,अलालत-sickness, साहिरी-जादूगरी, दलालत-proof)

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s