सभी दोष उसकी जवानी में था !

13494766_1006747926061096_1727341311922602650_n

122 122 122 12

कभी फूल अपनी रवानी में था,
चमन जब मेरी बागबानी में था !

परिंदें कफस तोड कर उड गये,
भरोसा उन्हें जाँफिशानी में था !

कहा था मगर वो सुने तो सही,
मेरा वाकिया भी कहानी में था !

करेंगे मुहब्बत कहा था कभी,
मेरा दिल उसी की निशानी में था !

असर भी हुआ था उसे प्यार का,
सभी दोष उसकी जवानी में था !

नीशीत जोशी
(जाँफिशानी = extreme effort)

Advertisements

કાઢશો શીશા એ દિલનો, વારો હવે ?

13432383_1005020846233804_1410748719073553213_n

કેમ કહવો, ઝખ્મને સારો હવે,
બે કદમ તું આપ, સથવારો હવે,

વીજ ઝબકે, તો સારા શુકન છે,
જામશે સાચે જ, વરસારો હવે,

જે અબુધ થઈને જ, હંકારે હોડી,
તેમની ડુબાડે નાવ, કિનારો હવે,

એમ લાગ્યું હજુ, ક્યાં ભૂલ્યા છે ?
એકધારું પ્રેમથી, પુકારો હવે,

જેમ તોડયો કાંચ, એવું થાય નહિ, કે,
કાઢશો શીશા એ દિલનો, વારો હવે ?

નીશીત જોશી

कीमतें जो है वफा की

13418730_1000933173309238_2706712204924888481_n

तिश्नगी वो है जिसे शबनम बुझा सकती नहीं,
है मुहब्बत वो जिसे नफरत मिटा सकती नहीं !

आसमाँ में चाँद तारे आ गये फिर देखलो,
रात काली भी कभी तन्हा सुला सकती नहीं !

तोडने को फिर उदासी, रात कोई आ गई,
ख्वाब भी पज़्मुर्दगी को अब हटा सकती नहीं !

पी लिये है जाम तेरे बैठकर आग़ोश में,
वो जिगर की प्यास फिर भी तू बुझा सकती नहीं !

बेवफाई की कभी होती नहीं कीमत कहीं,
कीमतें जो है वफा की वो गिरा सकती नहीं !

नीशीत जोशी (पज़्मुर्दगी= sadness)

अकेले कदम ही, बढाना पडेगा

13413131_998858030183419_1375614670246925716_n

जमाना कहेगा, बचाना पडेगा।
दरिन्दों तुम्हे अब, डराना पडेगा।

बहा के तुझे, ले चला हूं कहाँ पर,
नदी को, समंदर दिखाना पडेगा।

उतारा गया बाम पे, चाँद को भी,
कि पहरा वहाँ भी, लगाना पडेगा।

दिखाया न रास्ता, कभी भी किसीने,
अकेले कदम ही, बढाना पडेगा।

मिले गर बुलंदी, न भूलों मुहब्बत,
फसाना हमें ही, सुनाना पडेगा।

नीशीत जोशी

13327557_997345267001362_1838560496114952653_n

2112 2212 2122
राग पुराना तेरा भी है मेरा भी,
प्यार बचाना तेरा भी है मेरा भी,

दो गज़ की पाने जमी नींद खोई,
ये अफसाना तेरा भी है मेरा भी,

रोशन कर देना जला के ख्वाब सारे,
हाल बताना तेरा भी है मेरा भी,

फूल खिला के नदारद है हवा भी,
बंध फसाना तेरा भी है मेरा भी,

अब तुमसे क्या कहें ग़म के लिये हम,
साथ खजाना तेरा भी है मेरा भी !

नीशीत जोशी

तू तो मेरा ही दिलदार है

13331078_995545183848037_6594424155906517600_n

तीरगी है और, मेरा ये सफर पुरखार है,
जिंदगी तू है मगर, जीना मेरा बेकार है,

आ गये है आजमाने, आजमा लेना जरूर,
बेवफाई कर नहीं सकते, हम इज्जतदार है,

क्या गया तेरा, बहें आंसू तुम्हारे गर यहाँ,
बेफिक्र रह, हादसा होना यहाँ हरबार है,

लामुहाला, दर्द को, अपना बना लेंगे सदा,
जान लेना, आसमाँ में भी, तबीब का दरबार है,

आखरी है वक्त मेरा, आँख नम कर लो जरा,
कह रहे थे लोग, के तू तो मेरा ही दिलदार है !

नीशीत जोशी

चूम लूँगा

13319743_994297647306124_1650412330447862305_n

तेरे हाथो को चूम लूँगा,
तेरी आँखों को चूम लूँगा,

करूँगा इजहारे इश्क़ मैं,
तेरे होठों को चूम लूँगा,

फिर खामोशी होगी वहाँ पे,
तेरे बालों को चूम लूँगा,

करेंगे बातें प्यार की भी,
तेरे लफ्जों को चूम लूँगा,

तेरी रातों का होके महेंमाँ,
तेरे ख्वाबों को चूम लूँगा !

नीशीत जोशी    02.06.16