देनी है तो दे देना सजा-ए-मौत

MrsPopov2
जिन्दगी हर पल हमें आजमाती है,
उनकी यादे बार बार हमें सताती है,

आँखे भी लेती रहे इम्तिहान इतना,
ख़ुशीओ में भी आँखे आंसू बहाती है,

सिखा है सितमगर से सितम सहना,
पर जरा सी बात देर तक रुलाती है,

खोके मिले तो कोई मिलके खो जाए,
दिल की गहेराई जज्बात जताती है,

देनी है तो दे देना सजा-ए-मौत अब,
कतरों में जीने की क्यों सुनाती है?

नीशीत जोशी 26.07.13

तेरी सूरत

57552_1118701662_medium
“ एक प्रसिध्ध कव्वाली से प्रेरित रचना “
तेरी सूरत निगाहों से हटती नहीं,
दिल मचल जाए तो मैं क्या करू?
तेरी वो यादे जहन में बसती रहे,
दिल धड़क जाए तो मैं क्या करू?

आयना ले कर फिरू,
खुद चहेरा देखा करू,
यादो से रंगत उड़ती रहे,
दिल उछल जाए तो मैं क्या करू?

तेरी धड़कन में जिन्दा रहू,
हर बात में जिक्र तेरा करू,
अल्फाज की तादात बढ़ती रहे,
लब्ज बदल जाए तो मैं क्या करू?

हर उल्फत का सामना करू,
हर उन जखम पे सजदा करू,
वो रूह जिस्म को छलती रहे,
दिल दहल जाए तो मैं क्या करू?

नीशीत जोशी 25.07.13

નથી આ કોઇ ગઝલ કે નઝ્મ

220px-Paliyas_belonging_to_Mistris_of_Kutch_at_Dhaneti
નથી આ કોઇ ગઝલ કે નઝ્મ,આ તો તારા નામની કમાલ છે,
આપનારા ભલે આપે ઇલ્ઝામ,એ તો ખોટી તેઓની ધમાલ છે,

હૃદય થી લખવાને જો બેસું તો શબ્દો પણ પડશે બહુ ઓછા,
કલમ દોડવા લાગશે જોઈ મુજ હાથે તુજનો રેશમી રૂમાલ છે,

લૈલા-મજનુ હોય કે હિર-રાંઝાના કિસ્સા,આ વિશાળ જગ માહી,
વાતો તો આપણી પણ ચર્ચાય છે ગામ પાદરે,એમા શું માલ છે,

સમય આવ્યે બંધાઈ જશે પાળીયા ખેતરે, આપણા પણ એવા,
વાતો કરશે લોકો, જમાનામા આમનો પ્રેમ પણ બહુ કમાલ છે.

વિચારોનો બોજ લઇ આ મન પણ ભાગતું રહે છે અહી તહી હવે,
તુજ યાદોમાં,વાતોમાં,રહેતું મુજ હૃદય પણ તો એક હમાલ છે.

નીશીત જોશી 23.07.13

ऐ खुदा

shiv-2
आ गये तेरी महफ़िल में, एक दर्शनार्थी बन कर,
और गये तेरी महफ़िल से, जीवनसाथी बन कर,

मालूम न था, मुहब्बत ऐसा भी रंग दिखायेगी,
रह गये है खुद के ही घर में, शरणार्थी बन कर,

ऐ खुदा गर तू है, तो बता दे ये दुनिया वालो को,
वरना हो जायेंगे रुख़सत, एक प्रश्नार्थी बन कर,

फिर न करेगा प्यार, न होगी प्यार की दास्तां,
सब सीखते ही रह जायेंगे, एक विद्यार्थी बन कर,

समझकर भुला देंगे तुझे एक पत्थर की मूरत,
ऐ खुदा,कैसे सल्तनत चलायेगा सारथी बन कर?

नीशीत जोशी

दिलबर सा चहेरा दिलमें बसते जा रहा है

mermaid_by_Arshad_Art_Concept
होले होले रूख से नकाब हटते जा रहा है,
दिलबर सा चहेरा दिलमें बसते जा रहा है,

इंतज़ार भी क्यों करे अब किसी और का,
वो अहबाब खुद अब आहें भरते जा रहा है,

हकीकत है हो गया प्यार पहेली नजर में,
इसी वास्ते मुझ्तर प्यार करते जा रहा है,

नहीं होती है आसान राह-ए-मुहब्बत की,
आये हर तूफ़ान मुहिब्ब सहते जा रहा है,

सच्चे आशिक डूबते नहीं गहरे समंदर में,
केस अपनी लैला के लिये बहते जा रहा है !!!!

नीशीत जोशी 21.07.13
दिलबर,अहबाब,मुझ्तर,मुहिब्ब,आशिक = lover

સંબંધો કેરા નામની, રમતો ચાલે છે

hqdefault
હવે દુનિયામાં તો સંબંધો કેરા નામની, રમતો ચાલે છે,
કોઈ પોતાનાથી આગળ નીકળી ન જાય, એ જ ધારે છે,

લાગણીઓના તો શુ મોલ હવે, માનવતા પણ ન રહી,
પ્રેમમા પડેલાને લોકો પાગલ ખપાવી, પથ્થર મારે છે,

સપનાની કરે વાતો, પણ હોતી નથી ઉંઘ આંખોમાં રાત્રે,
નિસાસાનો લઇ સંગાથ, કરી ઉજાગરા પૂરી રાત જાગે છે,

પારકા ને કરવા પોતાના, કંઈ એટલા સહેલા નથી હોતા,
જીંદગી આખી રગડોળાયા બાદ, તેનો જ હિસાબ માગે છે,

શિખરે પહોચી, ભૂલી જાય છે આપેલો જેમણે હરદમ સાથ,
પછ્ળાયા બાદ, ફરી સાથ ખોળવા સ્વાર્થી કમાન સાધે છે.

નીશીત જોશી 20.07.13

हम मिलकर

1003462_364640826992186_1601111082_n
तेरा ही इंतज़ार करते है हम मिलकर,
तेरे ही प्यारको चाहते है हम मिलकर,

तेरी ही आरजू है और है जुस्तजू तेरी,
मुहब्बत इसीको कहते है हम मिलकर,

दिये वादों पे भरोषा रखा है हम सबने,
तुझे ही अपना मानते है हम मिलकर,

पनघट पर तो आओगे मटकी फोड़ने,
पँख पसारे आहे भरते है हम मिलकर,

मुकुट वास्ते, लेकर पँख, बदला नसीब,
नमन कर शीश धरते है हम मिलकर !

नीशीत जोशी 19.07.13