वक़्त वही है, हालात बदल गये लगते है

alone-time-ira-mitchell-kirk
वक़्त वही है, हालात बदल गये लगते है,
दस्तूर-ए-मुलाक़ात, बदल गये लगते है,

रंज न कर, अपनी तन्हाई से, ए दोस्त,
जवाब वही, सवालात बदल गये लगते है,

मुहोब्बत आज भी बरकरार है जैसी थी,
दिल है वही, जज्बात बदल गये लगते है,

मयकदे जाते जरूर है पर पिते नहीं शराब,
पाँव वही है पर,सबात बदल गये लगते है,

हैरत से आना छोड़ रखा है,सपनों ने यहाँ,
वो रात है वही,जज्बात बदल गए लगते है !!!!

नीशीत जोशी (सबात = stability) 21.12.12

प्यार के वास्ते

nazaakat
प्यार के वास्ते, उनके करीब आते रहे है,
गम-ए-जिन्दगी का असर, बताते रहे है,

ना कर बद-गुमानी, अपनी नजाकत की,
हम तो उन फूलो से भी, चोट खाते रहे है,

फरिस्ते भी माँगते है, दुआ उनके नबी से,
जमीं पर उतारने, चाँद को मनाते रहे है,

फितरत को बदल लो अपनी, सितमगर,
सितम भी, अब दर्द की ग़ज़ल गाते रहे है,

नहीं रखी है, कोई हसरत अब जिन्दगी में,
उनकी ख्वाइश को, अपनी बनाते रहे है !!!!

नीशीत जोशी 20.12.12

મધુર સબંધો એમ કંઈ બંધાતા નથી

9278-love-relation
મધુર સબંધો એમ કંઈ બંધાતા નથી,
લાગણીઓના સુર કંઈ ગવાતા નથી,

લઇ ને ભલે દોડે બોજો એ હૃદય નો,
મળેલા ઝખમ કોઈને અપાતા નથી,

સહન કરવું પડે છે હસતા મોઢે બધું,
નફરતે સબંધોને કંઈ નખાતા નથી,

પારકાને પોતાના કરવા નથી સરળ,
કાળજે એમજ પથ્થર પથરાતા નથી,

નમતા રહેવું પડે છે સૌ પાસે પ્રેમ થી,
પ્રેમે બાંધેલા સબંધ એમ હણાતા નથી.

નીશીત જોશી 18.12.12

मेरी फुरकत में

577925_268115359978046_1424363145_n
मेरी फुरकत में, जब तड़पा करोगे,
अकले बैठकर, तब रोया करोगे ।

आह निकलेगी, मेरी याद आने पे,
नामावर के आने से तौबा करोगे ।

ख़ुशनुमा रात लौट के ना आयेगी,
इन्तेज़ार में रात, बिताया करोगे ।

राह चलते भी, पिंदार मेरे ही होंगे,
दीदार को मेरे, बेहद तरसा करोगे ।

बे- ख़ुदी में ख़ुद, गुनाहग़ार समझोगे ,
मेरे जनाजे का, ख्व़ाब देखा करोगे ।

नीशीत जोशी (फुरकत = separation, नामावर = postman, पिंदार = thought ) 17.12.12

આ શરાબ પણ કંઈક આજ જૂની લાગે છે

72114321
આ હવા માં આજે કોઈ તાજગી લાગે છે,
આ શરાબ પણ કંઈક આજ જૂની લાગે છે,

સુરાલય માં જવાવાળા ખબરદાર રહેજો,
પ્રિયેના હાથમાંનો પ્યાલો પાણી લાગે છે,

હોશમાં રે’વાની કોશિશ આજ થશે નિષ્ફળ,
મયની નદી આજ મહેફીલે વહેતી લાગે છે,

સમીર પણ આજ મદ-મસ્ત થઇ ગયો હશે,
એકલવાયાઓ ને પણ અહી મેદની લાગે છે,

સપના પણ આજ ઉઘી નહિ શકે સરખા રાત્રે,
અર્ધ ખુલ્લી આંખો પણ આજ જાગતી લાગે છે.

નીશીત જોશી 16.12.12

वोह एक चिड़िया है

54_SPARROWS ON WINDOW
वोह एक चिड़िया है
रोज खिड़की पे झांकती है
पर
कहाँ से लाऊ
कोई दाना
जो
वोह खा सके
ना भी गर दूँ
उड़ के
चली जायेगी
ना कुछ बोलेगी
ना इतरायेगी
शायद
यह भी
अपनी
जिन्दगी जैसी है …

नीशीत जोशी 15.12.12

नहीं करते तबीब, नाईलाज दर्द की दवा

love_doctor-other
जहाँ में यह रूह, मुहब्बत तो करती है,
मगर, चाहनेवालो के पीछे भटकती है,

लगा कर दिल,एक रोग किया हासिल,
फिर मुश्कुराने को, दिनरात तरसती है,

वो कतरा भी लगता है समंदर के जैसा,
आंसुओ को सैलाब कहकर मचलती है,

हर एक परछाई, अपने मासूक की लगे,
हर कोई आहट पर, यह रूह तड़पती है,

नहीं करते तबीब, नाईलाज दर्द की दवा,
दर्द- ए-दिल में दुआ ही साथ चलती है !

नीशीत जोशी 14.12.12